एक प्रेरणादायक कहानी – वसीयत और नसीहत

एक प्रेरणादायक कहानी – वसीयत और नसीहत

एक प्रेरणादायक कहानी – वसीयत और नसीहत | A Motivational Story Will and Suggestion

एक दौलतमंद इंसान (rich person) ने अपने बेटे को वसीयत (will) देते हुए कहा,

“बेटा मेरे मरने के बाद मेरे पैरों में ये फटे हुऐ मोज़े (old socks- जुराबें) पहना देना, मेरी यह इक्छा (wish) जरूर पूरी करना ।

पिता के मरते ही नहलाने (after bath) के बाद, बेटे ने पंडितजी से पिता की आखरी (last wish) इक्छा बताई ।

पंडितजी ने कहा: हमारे धर्म (religion) में कुछ भी पहनाने की इज़ाज़त (permission) नही है।

पर बेटे की ज़िद थी कि पिता की आखरी इक्छ (last wish of father) पूरी हो ।

बहस इतनी बढ़ गई की शहर के पंडितों (pundits of city) को जमा किया गया, लेकिन कोई नतीजा (no result) नहीं निकला ।

इसी माहौल में एक व्यक्ति (one person) आया, और आकर बेटे के हाथ में पिता का लिखा हुआ खत (written post) दिया, जिस में पिता की नसीहत (edification) लिखी थी

“मेरे प्यारे बेटे”

देख रहे हो..? दौलत (money), बंगला, गाड़ी (cars) और बड़ी-बड़ी फैक्ट्री (big factories) और फॉर्म हाउस (farm house) के बाद भी, मैं एक फटा हुआ मोजा (socks) तक नहीं ले जा सकता ।

एक रोज़ तुम्हें भी मृत्यु (death) आएगी, आगाह हो जाओ, तुम्हें भी एक सफ़ेद कपडे (white clothes) में ही जाना पड़ेगा ।

लिहाज़ा कोशिश करना,पैसों के लिए किसी को दुःख (never give pain) मत देना, ग़लत तरीक़े से पैसा ना कमाना, धन को धर्म के कार्य में (spend money on religious work) ही लगाना ।

सबको यह जानने का हक है कि शरीर छूटने के बाद सिर्फ कर्म (only your work) ही साथ जाएंगे”। लेकिन फिर भी आदमी तब तक धन के पीछे भागता (running behind money) रहता है जब तक उसका निधन (death) नहीं हो जाता।

1) जो आपसे दिल से बात (talking from heart) करता है उसे कभी दिमाग से जवाब (never give answer from brain) मत देना।

2) एक साल मे 50 मित्र (friend) बनाना आम बात है। 50 साल तक एक मित्र से मित्रता (friendship) निभाना खास बात है।

3) एक वक्त था जब हम सोचते थे कि हमारा भी वक्त आएगा (our time will come) और एक ये वक्त है कि हम सोचते हैं कि वो भी क्या वक्त (what was a that time) था।

4) एक मिनट मे जिन्दगी नहीं बदलती (life not changing) पर एक मिनट सोच कर लिखा फैसला पूरी जिन्दगी बदल (can change whole life) देता है।

5) आप जीवन में कितने भी ऊॅचे (rise in life) क्यों न उठ जाएं, पर अपनी गरीबी और कठिनाई को (never forgot old hard times) कभी मत भूलिए।

6) वाणी में भी अजीब शक्ति (power) होती है। कड़वा बोलने वाले का शहद (honey) भी नहीं बिकता और मीठा बोलने वाले की मिर्ची (chilly) भी बिक जाती है।

7) जीवन में सबसे बड़ी खुशी (happiness) उस काम को करने में है जिसे लोग कहते हैं कि तुम (you cant do this) नही कर सकते हो।

8) इंसान एक दुकान (shop) है और जुबान उसका ताला। ताला (lock) खुलता है, तभी मालूम होता है कि दुकान सोने (gold) की है या कोयले (coal) की।

9) कामयाब होने के लिए जिन्दगी (do something in life) में कुछ ऐसा काम करो कि लोग आपका नाम Facebook पे नही Google पे सर्च करें।

10) दुनिया (world) विरोध करे तुम डरो मत, क्योंकि जिस पेङ पर फल (fruits) लगते है दुनिया उसे ही पत्थर (stone) मारती है।

11) जीत और हार आपकी सोच पर ही (depends on your thinking) निर्भर है। मान लो तो हार (loss) होगी और ठान लो तो जीत (win) होगी।

12) दुनिया की सबसे सस्ती चीज है (suggestion) सलाह, एक से मांगो हजारो (thousands) से मिलती है। सहयोग (cooperation) हजारों से मांगो एक से मिलता है।

13) मैने धन से कहा कि तुम एक कागज के (piece of a paper) टुकड़े हो। धन मुस्कराया और बोला बिल्कुल मैं एक कागज का टुकड़ा हूँ, लेकिन मैने आज तक जिंदगी में कूड़ेदान का मुंह (never seen dustbin) नहीं देखा।

14) आंधियों ने लाख बढ़ाया हौसला धूल (dust) का, दो बूंद बारिश ने औकात (status) बता दी।

15) जब एक रोटी के चार टुकड़े (four piece) हों और खाने वाले पांच हों, तब मुझे भूख नहीं (I am not hungry) है, ऐसा कहने वाला कौन है.? सिर्फ “माँ”।

16) जब लोग आपकी नकल (copy) करने लगें तो समझ लेना चाहिए कि आप जीवन में सफल (successful) हो रहे हैं।

17) मत फेंक पत्थर (stone in water) पानी में, उसे भी कोई पीता है।

मत रहो यूं उदास जिन्दगी में, तुम्हें देखकर भी कोई (someone living) जीता है।

Tags

वसीयत और नसीहत कहानी, वसीयत और नसीहत, Motivational stories in Hindi, प्रेरणादायक कहानी, Inspirational stories in Hindi, आज का सुविचार, will and suggestion hindi kahani, will and suggestion story in hindi

Close Bitnami banner
Bitnami